झज्जर पुलिस के जवानों को मानसिक व शारीरिक तौर पर स्वस्थ बनाए रखने के लिए सोमवार को एक विशेष जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पुलिस लाइन झज्जर में स्थित कम्युनिटी सेंटर में विशेष रुप से आयोजित हेल्थ चैकअप कैंप एवं जागरूकता शिविर के दौरान विशेषज्ञ चिकित्सक द्वारा पुलिस के जवानों के स्वास्थ्य संबंधी परीक्षण करते हुए मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया गया। जागरूकता स्वास्थ्य शिविर के दौरान डॉ. संदीप कुमार के नेतृत्व में डॉक्टर नरेश कुमार व अन्य की टीम द्वारा पुलिसकर्मियों की स्वास्थ्य संबंधी जांच करते हुए  उन्हें मानसिक स्वास्थ्य की दृष्टि से जागरूक किया गया। पुलिस अधीक्षक झज्जर श्री वसीम अकरम के दिशा निर्देश अनुसार विशेष रूप से आयोजित मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता शिविर के दौरान सहायक पुलिस अधीक्षक बादली अमित यशवर्धन आईपीएस, कल्याण निरीक्षक राजपाल सिंह, पुलिस लाइन डिस्पेंसरी के प्रभारी संजीव कुमार व बड़ी संख्या में झज्जर पुलिस के जवान उपस्थित रहे। जागरूक जागरूकता शिविर के दौरान मनोरोग चिकित्सक डॉ संदीप कुमार व अन्य वक्ताओं द्वारा पुलिस के जवानों को खानपान व जीवन शैली का विशेष ध्यान रखते हुए मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के संबंध में अपने अपने विचार व्यक्त किए गए। उन्होंने पुलिसकर्मियों से खानपान का विशेष ध्यान रखने व जीवन शैली में परिवर्तन करके मानसिक स्वास्थ्य को दुरुस्त बनाए रखने के संबंध में महत्वपूर्ण सुझाव दिए। उन्होंने कहा कि योगा व मेडिटेशन के द्वारा शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य को दुरुस्त बनाए रखा जा सकता है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन योग, व्यायाम, मेडिटेसन व एक्सरसाइज करनी जरूरी है। मानसिक तनाव आम बात है। हर व्यक्ति तनाव से ग्रसित है। इसे समाप्त करने के लिए अपने अंदर सकारात्मक विचार लाने बहुत जरूरी है। नकारात्मक विचारों को लंबे समय तक नहीं रखना चाहिए। तनाव के कारण अवसाद, बेचैनी, पागलपन, हाई बल्ड प्रेसर, पेट की बीमारी व सिरदर्द होने लगता है। जब भी तनाव में हो तो योगा, मेडिटेशन, दौड़, डांस, गाना आदि जो भी पसंद हो करना शुरू कर दें। इससे ध्यान भटक जाएगा और तनाव कम होगा। अपने स्वजनों, मित्रों अथवा नजदीकियों से बातें शेयर करें। समय प्रबंधन पर ध्यान दें। मन का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। पुलिस जनसेवा के लिए 24 घंटे तत्पर रहती है। परिस्थितियों के अनुसार बिना अवकाश भी ड्यूटी करनी पड़ती है। इस कारण पुलिस कर्मी तनाव का शिकार हो जाते है। इसलिए किसी भी माध्यम से जीवन में तनाव मुक्त रहने का प्रयास करें।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *